Achi biwi kaun hai - अच्छी बीवी की पहचान

بِسمِ اللہِ الرَّحمٰنِ الرَّحِيم

” शुरू अल्लाह के नाम से जो सब पर मेहरबान है बहुत मेहरबान है “

 

अच्छी बीवी कौन है?

हदीस पाक में आता है, इमाम बुख़ारी रहमतुल्लाहि अलैहि हज़रत अबू हुरैरह रज़ियल्लाहु अन्हु की रिवायत नकल करते हैं –

औरत से चार कारणों से निकाह किया जाता है –

(1) अव्वल माल की वजह से निकाह किया जाता है कि कोई मालदार घराना हो तो लोग | निकाह का पैगाम भेजते हैं कि चलो कारोबार ही करवा देंगे । दहेज में कोई घर लेकर देंगे और कार तो कहीं गयी ही नहीं। तो फ़रमाया  कि उसके माल की वजह से उससे निकाह करते हैं

(2) दूसरी वजह फरमाई कि उसके हुस्न और सुन्दरता की वजह से निकाह करते हैं।

(3)  तीसरी वजह फरमाई कि उसके हसब व नसब (यानी खानदान व घराने) की वजह से निकाह करते हैं यानी ऊँचे खानदान की वजह से निकाह करते हैं।

(4) चौथी वजह फरमाई कि उसकी नेकी और दीनदारी की वजह से निकाह किया जाता है।

तो फरमाया कि मैं तुम्हें इस बात की नसीहत करता हूँ कि तुम अपने लिए दीन की बुनियाद पर रिश्तों की तलाश करो ।

 

एक सच्चाई – 

जब बुनियाद ही कमज़ोर होगी तो जिन्दगी कैसे निभेगी। जिसने  सिर्फ खूबसूरती को देखा तो बताईये शक्ल की खूबसूरती कितने दिन रहती है, यह चन्द साल की बात होती है, जवानी हमेशा तो नहीं रहती। जिसकी बुनियाद ही कमजोर होगी उस पर बनने वाला घर भी कमज़ोर होगा।

 

एक  हदीस है के –

दुनिया एक मताअ (सामान और दौलत) है और इस दुनिया की सबसे कीमती दैलत नेक बीवी है। गोया अल्लाह तआला जिसे नेक बीवी अता करे वह समझे कि मुझे दुनिया की बहुत बड़ी नेमत मिल गयी।(मुस्लिम)

 

दुनिया की बेहतरीन औरत (हदीस) –

एक बार नबी पाक सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम की महफ़िल में बात चली कि दुनिया की औरतों में से बेहतरीन औरत कौन सी है । किसी ने कोई सिफ़त बताई और किसी ने कोई सिफत बताई। ख़ैर बातचीत होती रही। हज़रत अली करमल्लाहु वज्हहू किसी काम से घर तशरीफ़ ले गये। हज़रत फातिमा ज़हरा रज़ियल्लाहु अन्हा को बताया | कि महफ़िल में यह तज़किरा हो रहा है कि दुनिया की बेहतरीन औरत कौनसी है? अभी कोई फैसला नहीं हुआ। हज़रत फातिमा ज़हरा रज़ियल्लाहु अन्हा ने फरमाया मैं बतलाऊँ कि दुनिया की सबसे |बेहतरीन औरत कौनसी है? फरमाया हाँ! बताईये। फरमाया दुनिया की सबसे बेहतरीन औरत वह है जो न खुद किसी गैर-मर्द की तरफ़ देखे और न कोई गैर-मर्द उसकी तरफ देख सके।

हज़रत अली रज़ियल्लाहु अन्हु महफ़िल में वापस तशरीफ़ लाये और हुजूरे अकरम सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम से अर्ज कियाः या रसूलल्लाह! मेरी बीवी ने दुनिया की बेहतरीन औरत की पहचान यह बताई है कि जो न खुद किसी गैर-मेहरम को देखे न ही कोई गैर-मेहरम उसे देख सके। हज़रत नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने फरमायाः

फातिमा तो मेरे जिगर का टुक्ड़ा है।

 

अच्छी बीवी की सिफतें – 

बीवी में चार सिफतें ज़रूर होनी चाहिएँ –

(1) पहली सिफ़त उसके चेहरे पर हया हो। यह बात बुनियादी हैसियत रखती है कि जिस औरत के चेहरे पर हया हो, उसका दिल भी हया से भरा होगा। मिसाल मशहूर है कि चेहरा इनसान के दिल का आईना होता है। हज़रत अबू बक्र सिद्दीक़ रज़ियल्लाहु अन्हु का कौल है कि मदों में भी हया बेहतर है मगर औरत में बेहतरीन है।

(2) दूसरी सिफ़त बयान फ़रमाई जिसकी ज़बान में मिठास हो, यानी जो बोले तो कानों में रस घोले। यह न हो कि हर वक्त शौहर को जली-कटी सुनाती रहे या बच्चों को बात-बात पर झिड़कती रहे।

(3) तीसरी सिफ़त यह कि उसके दिल में नेकी हो।

(4) चौथी सिफ़त यह हो कि उसके हाथ काम-काज में मसरूफ रहें।

 

ये खुबियाँ जिस औरत में हों, यकीनन वह बेहतरीन बीवी की हैसियत से ज़िन्दगी गुज़ार सकती है। 
दीन की सही मालूमात  कुरआन और हदीस के पढने व सीखने से हासिल होगी |(इंशाअल्लाह)
पोस्ट को दोस्त व अहबाब में share ज़रूर करें
दुआ की गुज़ारिश 

Comments